Thursday, 31 January 2019

What is 13 point roster in universities

13 point roster system
13 Point roster system

13 Point Roster is on the Bahujan road across the country. With this, teachers and researchers from all the universities and colleges have started the agitation.
People are asking questions like :-
*what is roster system,
*what is 13 point roster system,roster system of supreme court
the roster system
*roster system of supreme court?
*the roster system?
*200 point roster system delhi university?
*easy roster system?
*what is roster point system in india?

What is 13 point roster in universities

In fact, there is bad news for the SC, ST and OBC candidates who are interested in becoming an assistant professor in the college and university. After the petition filed by the Supreme Court against the reservation roster, the door to become a lecturer in colleges and universities for the reserved category has almost been closed.

There is no provision of reservations already on the post of associate professor and professor. Now the appointment to Assistant Professor will be affected by the new decision. The government had challenged the judgment of Allahabad High Court (April, 2017) of the 13-point reservation roster (13 point roster) in the Supreme Court. On January 22, the Supreme Court dismissed the government's SLP, in which a demand for implementing the 200-point reservation roster system for 13 was sought. Supreme Court justified the Allahabad High Court verdict. According to the new decision, subject / departmental reservation roster will be prepared for appointment to the post of assistant professor of colleges and universities. This will be based on the 13 Point Roster system. The first three posts will be reserved for general and the fourth term will be reserved for OBC. Fifth-sixth position will also be normal. Seventh rank SC and 14th position will be in the quota of ST. That means there will be 04 vacancies in one subject, one will get OBC, 07 posts on vacancies, one post to SC and 14 vacancies, one post will go to ST account.

Advertisements in Central University often leave vacancies of one or two posts in one subject. Thus, the reserved category will not be able to get the chance in the Central Universities. State universities have more or less the same situation. It is so rare that seven or fourteen posts are advertised for the posts of assistant professors in one subject by the state universities. In such a situation, the doors to becoming assistant professors from quota have almost been closed.

Monday, 28 January 2019

गणतंत्र दिवस पर संविधान निर्माता डॉ. बाबा साहब अम्बेडकर अपमान हुआ

गणतंत्र दिवस पर संविधान निर्माता डॉ. बाबा साहब अम्बेडकर अपमान हुआ


Dr.Ambedkar

पिछले दिनों पूरे देश में 26 जनवरी मनाई गई लाल किले सहित लाखों जगह तिरंगा झंडा फहराया गया, लाखों जगह गणतंत्र दिवस के छोटे-बड़े कार्यक्रम आयोजित किए गए सरकारी और गैर सरकारी स्कूल कॉलेजों में कार्यक्रम आयोजित की गये, महात्मा गांधी जवाहरलाल नेहरू नेताजी सुभाष चंद्र बोस आदि महापुरुषों के चित्रों को फूल माला पहनाई गई, इन महापुरुषों की जय जयकार भी खूब सुनाई दिये, लेकिन चंद गिनी चुनी जगहों को छोड़कर लोग संविधान के शिल्पकार डॉ बाबा साहब भीमराव अंबेडकर को भूल गए । जिन्होंने 2 साल 11 माह 18 दिन की घोर मेहनत के बाद संविधान तैयार किया वह बाबासाहेब ही थे ,जिनके प्रयासों से देश के सभी नागरिकों को समानता और स्वतंत्रता मिल पाई बाबा साहब के योगदान के कारण ही हमारा देश गणतंत्र बन पाया है , तथा लोकतंत्र बन पाया है यह लोकतंत्र की ताकत है कि महिला होने के बाद भी इंदिरा गांधी देश की प्रधानमंत्री बन पाई और लोकतंत्र का ही चमत्कार है कि चाय बेचने वाला देश का प्रधानमंत्री बन  जाता है । और लोकतंत्र की ताकत है कि उत्तर प्रदेश के एक दलित समाज की बेटी भारत के सबसे बड़े राज्य की चार चार बार मुख्यमंत्री बन पाई , एक राज कुमारी  राजा की रानी तो बन सकती थी लेकिन कभी शासक नहीं बन सकती थी । इसी संविधान के कारण देश की महिला शासक बन पाई ।
इस मुद्दे पर आप यह वीडियो देश सकते है


लेकिन गणतंत्र दिवस पर जिस सम्मान के बाबा साहब हकदार हैं बस सम्मान उन्हें नहीं मिल रहा है इसका केवल एक ही कारण है कि बाबा साहब का उच्च कुल में जन्म न लेना, यदि बाबा साहब डॉक्टर भीमराव अंबेडकर ब्राह्मण , क्षत्रिय या किसी बड़े घराने में जन्म लेते तो उनका भरपूर सम्मान मिलता । अवश्य ही उनके चित्र हर समारोह में नजर आते तथा अवश्य ही समारोह में जय भीम के नारे लगते कई दिन पहले से टीवी चैनलों पर उनके योगदान की चर्चा होती ।
लेकिन बाबा साहब का जन्म उस समुदाय में हुआ था जिस संविधान को हिंदू धर्म में नीच समझा जाता था और शायद आज भी समझा जाता है यही कारण है कि अधिकतर समय ग्रहों में जातिवाद का नंगा नाच देखने को मिलता है ।
हजारों वर्षों पहले जिस मानसिकता को धर्म के माध्यम से लोगों के दिमाग में बैठा दिया गया था वह मानसिकता आज भी जिंदा है यही कारण है कि दलित दोनों को घोड़ी पर बैठने पर कई जातिवादी लोगों को तकलीफ होती है ।  भारत का सबसे बड़ा पद राष्ट्रपति को भी जाति देखकर उन्हें मंदिर में धक्का दिया जाता है । मुख्यमंत्री की जाति देख कर मुख्यमंत्री आवास खाली कराने पर उसे गंगा जल से दिलवाया जाता है ।
इसी मानसिकता के तहत आज देश में जातिवाद बरकरार है और जब तक यह जातिवादी मानसिकता बनी रहेगी तब तक देश की तरक्की नहीं हो सकती है और ना ही देश का लोकतंत्र कभी अच्छा बन सकता है ।
जय भीम , जय भारत

Tuesday, 15 January 2019

Conspiracy to make slogans from dual education policy in India

Conspiracy to make slogans from dual education policy in India

Different between government School and Private School
Different between government School and Private School

In our India, the people of Bahujan Samaj (SC ST OBC) did not have the right to write or read in the time of Manusmriti period, nor did our Bahujan great men, In particular in the field of education Mahatma Jyotiba Phule and Deshmita Mata Savitri Phule's reason for sacrificing and sacrificing the people of the backward classes Drbaje writing reading could be educated open why Sardar Patel and Dr. backward class person like Ambedkar

Constituent Assembly was formed in July 1946
After the British left India on August 15, 1947, after this, the Dalit exploited sufferers of this country got the opportunity to write the fate of financially vulnerable people as a constitution to Dr. Babasaheb Ambedkar.

Baba Saheb gave equal rights to all the citizens of India under article 14 of the Constitution and got the right to freedom in Article Article 19.

Conspiracy to remove the majority from education: -
On January 26, 1950, after the constitution was enacted, the Bahujan Samaj had an opportunity to write a special reading, especially in the field of Bahujan Samaj, the SC ST OBC started to pursue education and began to pursue a job profession.

But the 15% of the people of this country, who did not like to go ahead, write the people of Brahmin Baniya Thakur to read the SC ST OBC of Bahujan Samaj, because they feared that if these people started reading this way and started moving forward, Not when these people will match us.

Due to this inequal thinking thinking of these Manuites, these 15% handful of people adopted the education policy of doubling to remove the Bahujan Samaj from education and the education was divided into two parts.
1. Private School
2. Goverment School

1. Private School: -
Private School Private School An education which has built better education facilities, which has central board CBSC, fees for these schools are more than 25-50 thousand rupees, the people who have economic status are strong Schools are sent for education and the future of children is secured in these schools. In these schools, good education should be given to the children so that they can do something in the future. That the child's 15% Manuvadi handful of people, most schools can read these private schools children of high government officials, from the IAS IPS in private schools Private School are read in schools and keeps them secure future.

2. Goverment School
Today the condition of government schools is very bad. In government schools, children of Bahujan Samaj are being begging in the name of education. Schools have been made government dhabas here, in these government schools, instead of slate plates in our government schools And the bowl is being pumped.

In these government schools, there are cycles, books get, scholarships are received, otherwise education does not get; In these schools, children of Bahujan Samaj are being cheated very much, instead of being educated in government schools. Are just making literate.

State governments have enforced the rules that the children from the first to the eighth grade have to be passed in unread freely. But when this child passes from the first to the eighth of the unread, the children will ignore ignorance and result in 9th and 10th of the children.

We have to think and think very seriously that these governments are being made a big conspiracy to make children and children of our Bahujan Samaj into bondage and knowledge.

Today due to this policy, more than 90% of children are failing in 9th and 10th because their foundation is being weakened, our Scheduled Castes, Scheduled Tribes, Backward Classes, and Minorities (Muslim Sikh Buddhists) are economically weaker children. Does not have the ability to teach in private schools.

Today, after 9th and 10th failures due to this policy, most of our society is forced to flee for the work; firstly, bonded wages were used in the fields, now bonded wages in factories.

You can understand this from the fact that in the government school, the teacher's son, son's daughter, does not read in the government school, but teaches at the private school Private School. You can understand this situation from the people.

Those 10% of the students who had passed today, had to compete with the children of those CBSEs after 12th standard, and they would be left behind if the specially-made SC ST OBCs of the Bahujan Samaj reached the higher education, they could not get a job today. Young youths doing BA, MA, PHD, Engineer, Pharmacy are victims of unemployment, if 5% went further, they either reached higher education or got job jobs, then these 15% people started sticking in the eye and the racist dynamite mentality Due to governance Is disturbed by the ruled, that is why to be a victim because of suicide, injustice, oppression and racist mentality

This Congress is BJP's government, it is not right that there is a great conspiracy to make SC, ST, OBC, Majority (Muslim, Sikh, Christian, Buddhist) and people of economically weaker society enslaved.
Solution: - If you want to solve, we will have to obey Baba Saheb.

Baba Saheb had said -

"O people of my Bahujan Samaj, if you want to open the door of your liberation, if you want freedom from suffering, then take possession of the temple of that power and fight for your rights"
Jai Bhim Jai Kanshiram Jai India

Wednesday, 2 January 2019

Savitri Bai Phule is a great Woman

 Savitri Bai Phule is a great Woman

savitribai phule images
Savitribai Phule is India's first lady teacher

All the comrades were revolutionary Jai Bhim

Early life :-

Today, Mother Savitribai is Phule Jayanti, she is a woman, who sacrificed her everything to get women to get the right to get education.
She was born on January 3, 1831, his father's name was Khandozi Nevse and the mother's name was Lakshmi.Savitribai Phule was married in 1840 with the revolutionary of social revolution Mahatma Phule.Her husband Mahatma Phule taught her to teach and taught him.At that time the Shudras, the untouchables and women had no right to write according to the Hindu religion, especially according to Manusmriti. Mahatma Phule ji taught mother Savitribai Phule with the first education in the history of 5000 years.

Conflicts to open school: -

Mahatma Phule and Savitribai Phule ji jointly opened on 1st January 1848 for the first school untouchable girls and children.At that time, in the first 5000 years, Mahatma Phule and Savitribai Phule created a new history by opening the school for the untouchables and girls for the Shudras.
Her husband Jyotiba Phule prepared her to teach that she worked for teaching unskilled children Shudras and girls and did a revolutionary work,Mata Savitri Bai Phule became the first teacher of modern India and became the principal of that school, but at that time the Brahmins priests provoked Govindrao, father of Mahatma Phule ji and said, "Your son and daughter-in-law, untouchable girls, children and Shudras (Backward class) education Giving serious sin by giving.He argued that, the right to read and teach is only to the Brahmins, if they do not stop teaching, then the earth will be overturned.
Coming to his father Govindrao Brahmins, Mahatma Phule and his wife Mata Savitribai told Phule, "If you want to live in the house, you will have to stop the work of school, but Mahatma Phule is there and her wife Mata Savitri Bai Phule has her father Govindraoo If we can not stop the work of the school, then his father Govindrao has thrown him out of the house"

Help of Fatima Sheikh, a Muslim woman: -

Savitribai phule and Fatima sheikh
Savitribai phule and Fatima sheikh
After leaving the house, he had no place to live. At that time, the friends of Mahatma Phule ji, Usman Shaikh and Fatima Shaikh gave room to live in their house.Fatima Sheikh was the sister of Mian Ustan Sheikh, Fatima Sheikh gave space to run the school in her house and taught Savitribai Phule ji. Fatima Sheikh became the first Muslim teacher of modern India.Mata Savitri Bai Phule had to suffer terribly for teaching: It was not easy to teach mother Savitribai Phule to teach children, she had to face the brutal and hard opposition of Brahmins. About 107 years ago, when the children went to teach children, they used to take two saris with them, because whenever they came out of the way, people dumped them up to dung, stones, mud and even dumplings on them and going to school. Sari changed. Even after all this, he never lost the house, he did not get disturbed and never got distracted by his education.Today, this is the reason why women of India are educated today, they are in any field, women are ahead. Today women of India can go to the moon. Jobs can go to the army. The President is the only reason for becoming Prime Minister. Mother Savitribai Phule struggled.

Conflict and social work for widow marriage: -

 Mother Savitribai Phule also worked for improvement of education along with reform of the society, she made a lot of efforts to widen the widow remarriage to eliminate the practice of widows and the condition of the widows and especially in this work when the British The rule was of that, they worked for the development of women, that at the time of the 19th century, marriage at a young age was the practice of Brahmin religion. Therefore, most women became widows at a young age, according to the Brahmin religion, widow marriage was considered sin.In Kolhapur in 1881, it was such that after having a widow, she had to cut her hair and live in a very ordinary life and somewhere in the house, atrocities on women were physically exploited by members of the house.Together with Savitribai Phule ji and her husband Mahatma Phule ji, a pregnant widow named Kashi Bai stopped her from committing suicide and took care of her at her house and then delivered her time and later she adopted her son and taught him a lot. - Later, became a famous doctor named Yashwantrao.

Death:- 

Savitribai Phule and his adoptive son Yashwantrao had opened a hospital in 1897 for treatment of patients. In 1897, a fierce disease called plague was spread in Pune; Mother Savitri Phule took care of patients in his hospital and Giving facilities to bring the children back to the hospital on the back, due to this, the plague came under the scourge of disease and died on 10 January 1897.

Today our Bahujan Samaj has forgotten Mata Savitribai Phule, if the mother had not had Savitribai flowers and neither had she fought, then any women of India rarely got the right to write and women were stuck in slavery chains. It is the duty that due to the Mahatma Phule and Savitribai flowers, there was an opportunity to write and read Constitution Maker Dr. Babasaheb Ambedkar. Chance Kne got Doctor Babasaheb Ambedkar similar Rights to women Constitution

Wednesday, 26 December 2018

संजलि को न्याय दिलाने के लिए अम्बेडकर स्टूडेंट फोरम की आक्रोश सभा

संजलि को न्याय दिलाने के लिए अम्बेडकर स्टूडेंट फोरम की आक्रोश सभा

Just for Sanjali

वर्धा कैम्पस, 26 दिसम्बर, 2018
आगरा में बर्बरतापूर्वक जिंदा जला दी गई नाबालिग छात्रा संजलि के इंसाफ की आवाज को बुलन्द करने हेतु अम्बेडकर स्टूडेंट्स फोरम के बैनर तले आक्रोश सभा आयोजित हुई। उक्त सभा का आयोजन महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय कैम्पस स्थित गांधी हिल पर हुआ। आक्रोश सभा के पूर्व कार्यक्रम में उपस्थित सभी छात्र-छात्राओं ने संजली के फ़ोटो पर पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि दी गई। सभा को संबोधित करते हुए उपासना गौतम ने कहा कि इक्कीसवीं सदी में भी भारत में दलितों पर चौतरफा हमले जारी हैं। महिलाओं को यौन हिंसा का शिकार बनाया जा रहा है। संजलि की बर्बर हत्या इसी की एक कड़ी है। सनातनी वर्ण व्यवस्था के समर्थक संविधान को खुली चुनौती देते हुए मनुस्मृति को लागू करना चाहते हैं। आज लोकतंत्र पर खतरनाक ढंग से हमले हो रहे हैं, मनुस्मृति में यकीन रखने वाली शक्तियां ही सत्ता में बनी हुई हैं। हमलावर लगातार बेखौफ होते जा रहे हैं, क्योंकि उन्हें सत्ता का खुला समर्थन हासिल है। दलितों पर जारी हमलों के खिलाफ ज्यादातर राजनीतिक पार्टियां और मुख्यधारा की मीडिया शर्मनाक ढंग से चुप हैं। सभा को संबोधित करते हुए शिल्पा भगत ने कहा कि हम रेप कल्चर में जीने को मजबूर हैं। खैरलांजी की घटना की याद दिलाते हुए उन्होंने कहा कि उस घटना में गांव के बड़ी तादाद में पुरुषों ने एक महिला के साथ बलात्कार को अंजाम दिया और गांव की महिलाओं ने भी उन्हें इसके लिए उकसाया था। यह सिलसिला आज भी बदस्तूर जारी है। भारत में इस रेप कल्चर की प्रकृति कास्टिस्ट भी होती है। यही कारण है कि सवर्ण महिला के साथ जब बलात्कार होता है तो पूरे देश का मुद्दा बनता है किंतु जब किसी दलित महिला के साथ ऐसी घटना होती है तो यह मुद्दा नहीं बनता। न्यायिक प्रक्रिया भी इन्हीं जातिवादी-ब्राह्मणवादी प्रवृतियों से ही संचालित होती है। पलाश किशन ने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि योगीराज में उत्तर प्रदेश में महिला हिंसा की घटनाएं बढ़ती जा रही है। राज्य सरकार तमाम मोर्चों पर विफल है। आगे डॉ.अस्मिता राजुरकर ने संजलि का उदाहरण देते हुए कहा कि राष्ट्र के निर्माण में हमारी संवेदनाएं जानने के लिए वास्तविकता को जानना जरूरी है। तभी राष्ट्र संवेदनशील बन पाएगा। दलित फेमिनिस्म क्यों अलग हुआ क्योंकि सवर्ण महिलाओं ने दलित महिलाओं को स्पेस ही नहीं दिया। महिलाओं पर हो रहे रेप की घटनाओं पर कानून के द्वारा लगाम लगाया जाए। इसके अतिरिक्त पन्नालाल धुर्वे, रवि चंद्रा, मुकेश कुमार आदि ने अपनी-अपनी बातें रखीं।  सभा का संचालन शुभांगी शंभरकर ने किया और आभार रजनीश कुमार अम्बेडकर ने किया। उक्त अवसर पर रंजीत कुमार निषाद, चैताली, कुसुम, आशु बौद्ध, रचना, प्रेरणा पाटिल, रविचंद्र, राजेन्द्र कुमार, रिमझिम, ओमप्रकाश बौद्ध, दिलीप गिरहे, वैभव पिम्पलकर, राजन प्रकाश, भंते राकेश आनंद, धीरेन्द्र यादव, पुष्पेंद्र, आरती, इन्द्रश्री बौद्ध, आलोक कुमार बौद्ध, राकेश विश्वकर्मा, कौशल यादव, अनिल कुमार, नरेश गौतम, क्रांति, ब्रजेन्द्र कुमार गौतम, शशिकांत यादव, दिलीप कुमार, सरफ़राज़, आबिद, आशिष कुमार, नीलूराम कोर्राम, कृष्णा निषाद, शशिकांत, धमरत्न, रविन्द्र, वैभव, सहित दर्जनों छात्र-छात्राएं उपस्थित हुए। 
जय भीम....जय भारत....जय संविधान....हूल जोहार....

Saturday, 22 December 2018

संजली मर्डर केस के मुद्दें पर मीडिया चुप क्यों

        संजली मर्डर केस के मुद्दें पर मीडिया चुप क्यों

Sanjali muder case
संजली हत्या कांड के मुद्दे पर मीडिया चुप क्यों 
एक 10 वीं कक्षा की लड़की जिसको दिनदहाड़े सड़क पर पेट्रोल डालकर जला दिया जाता है तथा बाद में उस लड़की की अस्पताल में मृत्यु हो जाती है, जिसका नाम संजली है , ऐसी कई संजली  के साथ रोज घटनाएं होती रहती हैं, तथा बहुजन समाज की बेटियों के साथ ऐसी कई अन्याय अत्याचार जैसी घटनाएं आए दिन होती रहती हैं, ऐसे में देश का चौथा स्तंभ कहा जाने वाला हमारा मेंन स्ट्रीम मीडिया ऐसी खबरों को दिखाने से बचता रहता है, जबकि ऐसी भयभीत घटनाओं का हमारा पूरा बहुजन समाज विरोध करता रहता है और सड़कों पर उतरता है, लेकिन मेंनस्ट्रीम मीडिया कभी ऐसी खबरों को विरोध प्रदर्शनों को प्रमुखता से नहीं दिखाता है । ऐसी अति महत्वपूर्ण मुद्दों को यह मीडिया कभी महत्व नहीं देती है और न ही इन खबरों का इस मीडिया में कोई स्थान रहता है ।
जबकि देश का बहुजन समाज कोई छोटा-मोटा समाज नहीं है इस देश का 85% बहुजन समाज है और यह बहुजन समाज पूरे भारत को बंद करने की ताकत रखता है । इस 85% बहुजन समाज के लिए मेंनस्ट्रीम मीडिया में कोई महत्वपूर्ण खबर नहीं रहती है।
लेकिन इस मेंनस्ट्रीम मीडिया के लिए गाय गोबर गोमूत्र इस मेंनस्ट्रीम मीडिया के लिए बहुत महत्वपूर्ण खबर रहती है तथा  गाय गोबर गोमूत्र की घटनाओं को दिन रात 24 घंटे प्रमुखता से दिखाता रहता है ।
15% सवर्ण समाज की बहन बेटियों महिलाओं के साथ ऐसी घटना होती है तो यह Main Stream मीडिया दिन रात अखबारों में टीवी पर यह खबर ज़रूर चलती रहती और इनके लिए यह खबर बहुत महत्वपूर्ण रहती है ।
लेकिन मीडिया के लिए बहुजन समाज की सुख दुख   से कोई जुड़ी खबर इनके लिए कोई खबर नहीं है यह हमारे लिए बहुत दुख की बात है । मीडिया का यह दुर्व्यवहार जातिवादी मनुवादी मानसिकता वाली मीडिया होना यह साबित करता है ।
तथा ऐसे में भारतीय जनता पार्टी तथा कांग्रेस की नेता जो अपने आप को दलित नेता तथादलित हितैषी बोलते हैं और नेताओं के मुंह में ऐसी घटनाओं को लेकर दही जमा रहता है ।
जहां संजली को न्याय दिलाने के लिए सोशल मीडिया जैसे फेसबुक,व्हाट्सएप, टि्वटर, यूट्यूब के माध्यम से यह बहुजन समाज जंग छिड़ी हुई है पूरा बहुजन समाज सोशल मीडिया पर आवाज उठा रहा है वहीं यह मनुवादी मानसिकता वाली मीडिया मेंन स्ट्रीम मीडिया हनुमान की जाति  दिन रात दिखाने में मस्त है ऐसे में सवाल पैदा होता है कि हमारी खबरें प्रमुखता से क्यों नहीं दिखाता है तो मैं बता देना चाहता हूं कि यह मीडिया पूरी की पूरी जातिवादी मानसिकता वाले मीडिया है तथा मेंन स्ट्रीम मीडिया में बहुजन समाज का कोई भी चैनल नहीं है और न ही बहुजन समाज के एंकर और रिपोर्टर है ।
अगर यह जातिवादी मनुवादी मानसिकता वाली मीडिया नहीं होती तो संजली की हत्या की खबर को प्रमुखता से दिखाते तथा बहुजन समाज में ऐसी कई अन्याय अत्याचार जैसी घटनाएं होती रहती है यह मीडिया प्रमुखता से जरूर दिखाता ।
देश की यह मीडिया अच्छे से जानते हैं कि अगर हम बहुजन समाज की खबरों को प्रमुखता से दिखाएं लगे तो बहुजन समाज जागृत हो जाएगा और ऐसे में इस देश के 15 परसेंट वाले मनु वादियों को खतरा पैदा हो जाएगा इस वजह से यह मीडिया हमारी घटनाओं को लेकर हमेशा चुप रहती है ।
ऐसे में सोशल मीडिया को ही हम बहुजन मीडिया कह सकते हैं क्योंकि इस सोशल मीडिया के माध्यम से हम अपनी बातों को विचारों को एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति तक पहुंचाने में आसानी होती है तथा ऐसी घटनाओं के खिलाफ हमारे बहुजन समाज पूरा का पूरा सोशल मीडिया पर लड़ाई तथा न्याय के लिए बहुजन समाज सोशल मीडिया के माध्यम से मजबूत करता है ।
85% आबादी वाले बहुजन समाज की खबरों को यह मीडिया प्रमुखता से नहीं दिखाता है,तो हमें इस मेंनस्ट्रीम मीडिया का बहिष्कार करना चाहिए और मेंनस्ट्रीम मीडिया में हमें अपनी भागीदारी सुनिश्चित करनी चाहिए तथा मेंनस्ट्रीम मीडिया में बहुजन समाज का चैनल होना चाहिए जिससे बहुजन समाज की खबरों को प्रमुखता से देखा जा सके ।
लेकिन अभी सोशल मीडिया ही हमारी सबसे बड़ी ताकत है और यह सोशल मीडिया की ताकत है कि बिना किसी बैनर पोस्टर के हम 2 अप्रैल को भारत बंद कर सके, इसलिए सोशल मीडिया पर बहन संजली को न्याय दिलाने के लिए मुहिम और तेज करनी चाहिए जिससे बहन संजली के दोषियों को सजा मिल सके और हमारी बहन बेटी को न्याय मिल सके ।
                    #Justice for Sanjali

आप इसी मुद्दे पर यह वीडियो भी देख सकते है 


अम्बेडकर स्टूडेंट फोरम ने 80% फिलोशिप बढ़ाने के लिए MHRD मिनिस्टर को सौंपा ज्ञापन

अम्बेडकर स्टूडेंट फोरम ने 80% फिलोशिप बढ़ाने के लिए MHRD मिनिस्टर को सौंपा ज्ञापन

Ambedkar Student Forum
Ambedkar Student Forum

22 दिसम्बर 2018, वर्धा कैम्पस
    आज देशव्यापी फ़ेलोशिप के तहत 80% बढ़ोतरी के लिए प्रदर्शन ‘अम्बेडकर स्टूडेंट्स फोरम (एएसएफ़) छात्र-संगठन महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय, वर्धा के गांधी हिल पर रिसर्च स्कॉलरों ने मिलकर जोरदार प्रदर्शन किया। इस संबंध में महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय, वर्धा (महाराष्ट्र) के कुलसचिव के द्वारा मानव संसाधन विकास मंत्रालय, भारत सरकार को एक 10 मांगों का ज्ञापन भी भेजा जाएगा। प्रदर्शन में रिसर्च स्कॉलरों ने कहा कि वर्तमान केंद्र की सरकार ने शिक्षा का बजट बढ़ाने के बजाए कटौती करने का काम किया है। जबकि विदेशों में शिक्षा पर प्रतिवर्ष शिक्षा पर बजट बढ़ाया जाता है। हमारे देश में 7वें वेतन आयोग की सिफ़ारिशों की वजह से देश के सभी कर्मचारियों का वेतन बढ़ा है। देश के नेताओं द्वारा एक दिन का भी विधायक/सांसद बनने पर वह सारी सुविधाएं लेने का हकदार बन जाते हैं। लेकिन एक रिसर्च स्कॉलर जो अपनी उम्र के उस पढ़ाव पर रहता है। जहां वह अपने शोध कार्यों में होने वाले खर्च को परिवार वालों से मांगकर वहन नहीं कर सकता है। दिन पे दिन बढ़ती हुई मंहगाई के कारण शोध से संबंधित जरूरतों को फेलोशिप से पूरा नहीं कर पा रहे हैं। ऐसे में गुणवत्तापूर्ण सामाजिक हित के शोध कार्य की कैसे हम उम्मीद कर सकते हैं।
    
    आगे रिसर्च स्कॉलरों ने कहा कि इससे पहले फ़ेलोशिप समय-समय पर मंहगाई के कारण बढ़ाई गई है। लेकिन केंद्र कि सरकार ने चार वर्ष पूर्ण होने को हैं अभी तक कोई बढ़ोतरी नहीं की है। देश में जितने भी रिसर्च हो रहे हैं उन सभी स्कॉलरों की फ़ेलोशिप बढ़ाई जाने के लिए पुरजोर समर्थन किया। और कहा कि मौजूदा सरकार ये मत भूले की डंडे और पुलिस के बल पर छात्रों की आवाज को दबाने का काम कर लेगें। अभी तो ये  प्रदर्शन विश्वविद्यालयों में अपनी मांगों को लेकर हो रहा है। अगर शीघ्र हमारी मांगे पूर्ण न होने पर कैम्पस से लेकर सड़क तक सभी छात्र-संगठन आंदोलन करने के लिए बाध्य होगें। इस प्रदर्शन का संचालन बौद्ध अध्ययन विभाग के पी-एच.डी., रिसर्च स्कॉलर दिनेश पटेल द्वारा किया गया। इस प्रदर्शन में हिंदी विश्वविद्यालय के विभिन्न विभागों के पीएचडी रिसर्च स्कॉलर, रजनीश कुमार अम्बेडकर, ब्रजेन्द्र कुमार गौतम, श्वेता, अनिल कुमार, दिलीप गिरहे, पन्नालाल, दीनानाथ यादव, माधवी, शिल्पा भगत, राहुल, नरेश गौतम, रंजीत निषाद, राकेश आदि शामिल हुए।  

जारीकर्ता
                                        (रजनीश कुमार अम्बेडकर)
            कृते केंद्रीय समिति, अंबेडकर स्टूडेंट्स फोरम (ASF)
महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय, वर्धा
Email: asf.asfmgahv@gmail.com